24 फरवरी, 2020|7:23|IST

अगली स्टोरी

कर्क

23 फ़र॰ 2020

मन में निराशा एवं असन्तोष के भाव रहेंगे। मन अशान्त रहेगा। आत्मसंयत रहें। शोध के अतिरेक से बचें। परिवार के साथ धार्मिक स्थान की यात्रा पर जाना हो सकता है। धार्मिक संगीत के प्रति रुझान हो सकता है। नौकरी में कठिनाइयों का सामना हो सकता है। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

 

कर्क

24 फ़र॰ 2020

आत्मविश्वास में कमी आएगी। संयत रहें। मानसिक शान्ति रहेगीआत्मविश्वास में कमी के चलते कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। किसी पैतृक सम्पत्ति का लाभ हो सकता है। बातचीत में संयत रहें। क्रोध के अतिरेक से बचें। अनियोजित खर्च बढेंगे। संचित धन में कमी आयेगी। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

कर्क

25 फ़र॰ 2020

मन अशान्त रहेगा। पिता को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। वाहन सुख में कमी आ सकती है। स्वास्थ्‍य के प्रति सचेत रहें। भाइयों से साथ किसी धार्मिक स्थान की यात्रा पर जा सकते हैं।

नौकरी में स्थान परिवर्तन के योग बन रहे हैं। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

कर्क

week9-2020

Not found

कर्क

1 फ़र॰ 2020

आत्मविश्वास से लबरेज तो रहेंगे, परंतु क्रोध और आवेश की अधिकता रहेगी। तीन फरवरी के बाद माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। आय की स्थिति में सुधार होगा। आठ फरवरी से स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। शैक्षिक कार्यों में व्यवधान आ सकते हैं। संतान को कष्ट रहेगा। पिता को शारीरिक कष्ट हो सकते हैं। कारोबार में कठिनाइयां आ सकती हैं। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

कर्क

1 जन॰ 2020

कर्क-(22 जून-23 जुलाई)।

वर्ष के प्रारम्भ क्रोध की अधिकता रहेगी। मन अशान्त रहेगा। कला एवं संगीत के प्रति रुझान बढ़ना चाहिए। 25 जनवरी के बाद पारिवारिक जीवन में सुधार होना चाहिए, परन्तु मानसिक कठिनाइयां भी बढ़ेंगी। 30 मार्च के बाद मानसिक कठिनाइयों में कमी आनी प्रारम्भ हो जाएंगी। धर्म के प्रति श्रद्धाभाव रहेगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिलेंगे। 12 मई से 30 सितम्बर के मध्य सन्तान को स्वास्थ्‍य विकार हो सकते हैं। शैक्षिक कार्यों में व्यवधान आ सकते हैं। 24 सितम्बर से खर्चों में कमी आयेगी। आय वृद्धि के साधन विकसित होंगे, परन्तु स्वभाव में चिड़चिड़ापन बढ़ सकता है। 19 नवम्बर के बाद वाहन सुख में वृद्धि के योग बन रहे हैं। भौतिक सुखों में वृद्धि होगी। माता का सानिध्य मिलेगा। 21 नवम्बर के बाद लेखनादि-बौद्धिक कार्यों से आय के स्रोत विकसित हो सकते हैं।

उपाय-

1:सवा पांच रत्ती का पुखराज सोने की अंगूठी में जड़वाकर दाहिने हाथ की तर्जनी उंगली में धारण करें।

2:शनिवार के दिन सूर्यास्त के बाद सरसों के तेल का दीपक पीपल के पेड़ के नीचे जलायें।

3: मंगलवार के दिन रोटी में गुड़ रखकर गाय को खिलायें। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)