24 फरवरी, 2020|9:17|IST

अगली स्टोरी

तुला

23 फ़र॰ 2020

आत्मविश्वास में कमी रहेगी। वाणी में कठोरता का प्रभाव रहेगा। बातचीत में संतुलन बनाए रखें। नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा तरक्की के मार्ग प्रशस्त होंगेक्षणे रूष्टा-क्षणे तुष्टा की मनः स्थिति रहेगी। धार्मिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

तुला

24 फ़र॰ 2020

मानसिक तनाव रहेगा। जीवनसाथी को स्वास्‍थ्‍य विकार हो सकते हैं। खर्च अधिक रहेंगे। शैक्षिक कार्यों में व्यवधान आ सकते हैं। माता-पिता का सहयोग रहेगा। सन्तान को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। खर्चों की अधिकता रहेगी। परिश्रम अधिक रहेगा। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

तुला

25 फ़र॰ 2020

जीवनसाथी को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। आलस्य की अधिकता रहेगी। पारिवारिक समस्याएं परेशान कर सकती हैं। रहन-सहन कष्टदायी हो सकता है। भाइयों एवं बहनों का सहयोग मिलेगा।

धार्मिक कार्यों में व्यस्तता हो सकती है। परिश्रम अधिक रहेगा। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

तुला

week9-2020

Not found

तुला

1 फ़र॰ 2020

मास के प्रारंभ में मानसिक शांति रहेगी। आठ फरवरी के बाद से धैर्यशीलता में वृद्धि होगी। परंतु कार्यक्षेत्र में परिश्रम अधिक रहेगा। मित्रों से वैचारिक मतभेद हो सकते हैं। स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहें। शैक्षिक एवं बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ेगी। वाहन के रखरखाव पर खर्च बढ़ सकते हैं। अधिक खर्चों से चिंतित रहेंगे। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

तुला

1 जन॰ 2020

तुला-(23 दिसम्बर-23 अक्टूबर)

वर्ष के प्रारम्भ में मानसिक शान्ति रहेगी। आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे, परन्तु 8 फरवरी तक वाणी में कठोरता का प्रभाव भी रहेगा। 25 जनवरी से पिता को स्वास्थ्‍य  विकार हो सकते हैं। भवन सुख में वृद्धि होगी। सुख-सुविधाओं का विस्तार भी हो सकता है। परन्तु स्वास्थ्‍य विकार बढ़ सकता है। विशेष रूप से खान-पान के प्रति सचेत रहें। 30 मार्च से पिता के स्वास्थ्‍य में सुधार होना प्रारम्भ होगा, लेकिन कारोबार में व्यवधान आ सकते हैं। शैक्षिक कार्यों के परिणाम असन्तोषजनक हो सकते हैं। 01 जुलाई से 14 सितम्बर के मध्य कार्यक्षेत्र में विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। 24 सितम्बर के बाद नौकरी में स्थान परिवर्तन के आसार बनेंगे। स्वास्थ्‍य संबंधी समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं। परिवार का साथ मिलेगा। वर्ष के आखिर में किसी बुजुर्ग महिला से धन प्राप्ति हो सकती है।

उपाय-

1:प्रत्येक बृहस्पतिवार के दिन यथाशक्ति पीले कपड़े में चने की दाल बांध कर मन्दिर के पुजारी को दान किया करें। 2:शनिवार के दिन प्रातःशिवलिंग पर जटा सहित पानी वाला नारियल (ब्राउन रंग का) चढ़ावा करें।

3: मंगलवार के दिन रोटी में गुड रखकर गाय को खिलाया करें। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)