21 सितम्बर, 2020|11:28|IST

अगली स्टोरी

जब कोर्ट ने पति-पत्नी और उनकी 4 महीने की बच्ची को मिलाया, जानें क्या है पूरा मामला

एक साल बाद कोर्ट में 27 वर्षीय युवक अपनी पत्नी और चार साल की बेटी से मिला तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं था। असल में उनकी मुलाकात कोर्ट ने कराई क्योंकि लगभग एक साल पहले इस व्यक्ति पर अपनी पत्नी का अपहरण और दुष्कर्म के आरोप में मुकदमा चलाया गया था। अंकित कुमार और एक लड़की ने पिछले साल 18 फरवरी को अपनी शादी की घोषणा की, जिसके बाद लड़की के पिता द्वारा आपत्ति जताई गई।

उस समय लड़की के पिता ने दावा किया था कि उसकी बेटी की शादी के समय 18 साल से भी कम उम्र थी और उसका अपहरण किया गया था। इसके बाद 10 मई 2०19 को अंकित को गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी के बाद पत्नी को 'निर्मला छाया' आश्रय गृह में भेजा गया था और तब से वह वहीं पर रह रही थी।

दिल्ली के निवासी अंकित कुमार पर अपहरण व दुष्कर्म सहित विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा चलाया गया। हालांकि उसे 11 दिसंबर, 2019 को सभी आरोपों से बरी कर दिया गया था। इस बीच उसकी पत्नी ने यहां महिला आश्रय गृह में एक बेटी को जन्म दिया।

कुमार ने हाईकोर्ट के समक्ष एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की, जिसमें आग्रह किया गया कि उसकी पत्नी और बेटी को अदालत में पेश किया जाए और उन्हें घर ले जाने की अनुमति दी जाए। साथ ही उसने यह भी कहा कि उसने अभी तक अपनी बच्ची को देखा तक नहीं है।

न्यायमूर्ति सिद्धार्थ मृदुल और आई. एस. मेहता की खंडपीठ ने बुधवार को बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) को पांच कार्य दिवसों के अंदर कुमार की याचिका पर फैसला करने के लिए कहा और आश्रय गृह में उचित समय के दौरान उसे उसकी पत्नी व चार महीने की बेटी से मिलने की अनुमति भी दी।
 

लाइव हिन्दुस्तान टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं।
आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।
  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें।
  • Web Title:husband-wife and their 4-month-old baby meet in delhi high court after one year know what is the whole matter